Tuesday, September 30, 2008

तुझे प्यार करते करते


जिक्र फ़िर उसी फनकार का है जिसे जितना सुनिए उतनी ही सुनाने की इच्छा होती है जी हाँ मैं बात कर रहा हूँ मेहंदी हसन साहब की उन्होंने जीतनी बढिया गज़लें गई हैं उतने ही अच्छे गाने फिल्मों के लिए भी गाए हैं उन्ही गानों में से मैं आज आपको अपना पसंदीदा गीत सुनवा रहा हों जितना अच्छा मेहंदी हसन जी ने गाया है, उतने ही अच्छे बोल हैं मुझे गीत का नाम नहीं मालूम है यदि आपमें से किसी को ज्ञात हो तो बताइएगा लीजिए तुझे प्यार करते-करते मेरी उम्र बीत जाए.....


6 comments:

sidheshwer said...

उस्ताद मेहंदी हसन साहब के स्वर के श्रवण से आज का दिनारम्भ, क्या बात है. मुहब्बत भरा यह गीत हम सबके जीवन में प्यार और खुलूस के जज्बे को जिन्दा रक्खे!
अरे ,अभी- अभी तो उस्ताद गा रहे थे .अभी कुछ और बजने लगा . जरा देख लें भाई!क्या माजरा है?

Udan Tashtari said...

वाह!! आभार!!

Ashok Pande said...

सिंह साहब

अगस्त १९७५ में रिलीज़ हुई पाकिस्तानी फ़िल्म 'मेरा नाम है मोहब्बत' का गाना है यह. शबाब केरानवी साहब निर्देशक थे, मोहम्मद अशरफ़ का संगीत था, तसलीम फ़ज़ली गीतकार थे. फ़िल्म के गीत ख़ान साहब के अलावा नाहीद अख़्तर और अहमद रश्दी ने गाये थे.

अच्छी पेशकश. पुराना पसन्दीदा गीत.

आपके ब्लॉग का लिंक कबाड़ख़ाने पर लगा रहा हूं.

Ashok Pande said...

और हां, अगर इस गाने का वीडियो देखना चाहें (अलबत्ता अपने रिस्क पर देखें) तो यह रहा लिंक:
http://in.youtube.com/watch?v=qtkTSgNypF4&eurl=http://mazhar.dk/film/history/70s/1975.htm

एस. बी. सिंह said...

धन्यवाद अशोक जी । कबाड़खाना पर लिंक लगाने के लिए भी धन्यवाद।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

behad Sunder prastuti ..
aur bhee sare Geet aapke Jaal Ghar per umda lage ..Dhanywaad !

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails