Saturday, September 13, 2008

दिगंबर की होली

आप भी कहेंगे कि अभी तो दीपावली आने को है और इसे होली कि सूझी है। पर यकीन मानिए पंडित छन्नू लाल मिश्र का गाया यह फाग सुना तो लगा इसे आपको भी सुनाया जाय। 'होली खेलै रघुबीरा अवध में' तो आप ने जरूर सुनी होगी अब भूतनाथ की होली का भी हाल जानिए। पंडितजी ने ठेठ बनारसी अंदाज में गाया भी खूब है, होली का माहौल जीवंत हो उठा है -


MusicPlaylist

4 comments:

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

bhai sunakar anand aa gaya. dhanyawad sunane ke liye.

महेन said...

दीवाली हो चाहे दशहरा इसे सुनने के बाद तो पिचकारी लेकर रंगों में नहाने का मन कर रहा है।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

Bahut khoob Geet sunaya aapne.
Dhanywaad.

Parul said...

adhbhut!!!

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails